Sunday, November 21, 2010

बाबू प्रतीक उपाध्याय – डिफ़र्ड लाईव फ़िराम रायपुर

 

8 comments:

Majaal said...

गनीमत है साहब आपकी कंपनी का नाम SKPL है, कुछ आस पास होता GPL जैसा या कुछ और, तो बिना दिव्या नेत्र के ही संजय को बहुत कुछ दर्शन हो जाता ;)
रोचक, लगे रहिये...

abhi said...

प्रतीक बाबू उर्फ SKPL, देखता तो जरुर होगा ...हा हा :)
मजा आ गया यार..:)


ओए पंकज बाबू, इनके(प्रतीक) बारे में भी कुछ बताया जाये ...

दीपक डुडेजा DEEPAK DUDEJA said...

ओफ्फ्फ्फ़ ........ स्पीकर लाना जरूरी होता जा रहा है.

प्रवीण पाण्डेय said...

सुनकर आनन्द आ गया, सुनाने का अन्दाज़ निराला है।

Sanjeet Tripathi said...

मस्त एकदम. सुनाने के अंदाज़ के कारण और भी मस्त लगा.
बढ़िया किस्सा रहा मंदिर हसौद स्थित जिंदल प्लांट का. रेड्डी बोले तो पी आर उहाँ का.

बाबू प्रतीक उपाध्याय रायपुर में ही हैं?

डॉ .अनुराग said...

interesting brother......

एक दम झकास !!!

V!Vs said...

aapko padna achha lagta h.....

V!Vs said...

aapko padna achha lagta h.....